in ,

बरेली के विधायक ने कहा कांवड़ियों को पुलिस प्रशासन न निकलने दे तो कांवड़ में लगा दो आग

बरेली के खजुरिया ब्रह्मान गांव में डेढ़ सौ कांवड़ियों को पुलिस प्रशासन ने कैद कर दिया है. खजुरिया से उमरिया जाने वाले रास्ते पर बैरियर लगा दिए गए हैं.

भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल को उनके घर में नजर बंद कर दिया है. विधायक ने कहा कि कांवड़ियों को पुलिस प्रशासन के अफसर न निकलने दे तो उनके सामने ही कांवड़ में आग लगा दो.

खजुरिया ब्रह्मान के कांवड़िया उमरिया सैदपुर गांव होकर कांवड़ निकालने को लेकर अड़े हैं. उनका कहना है कि जाएंगे तो इसी गांव से. वरना नहीं जाएंगे. इसको देखते हुए डीएम और एसएसपी ने गांव की जबरदस्त घेराबंदी कर दी है.

हरुनगला वाले रास्ते पर एसपी देहात डॉक्टर सतीश कुमार, एडीएम प्रशासन आरएस द्विवेदी के साथ पुलिस और पीएसी की टीम को तैनात किया गया है.

खजुरिया से उमरिया जाने वाले रास्ते पर एसपी क्राइम रमेश कुमार भारतीय, एएसपी अशोक कुमार मीणा, एसडीएम एमपी सिंह, एसीएम रोहित यादव, सीओ नीति द्विवेदी पुलिस पीएसी के साथ गांव में डेरा डाले हुए हैं.

उमरिया वाले रोड पर एसपी सिटी अभिनंदन सिंह, एडीएम सिटी ओपी वर्मा को तैनात किया गया है. भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल को उनके घर में ही नजरबंद कर दिया है. एसपी ट्रैफिक कमलेश बहादुर, सीओ सिटी कुलदीप कुमार के साथ एसडीएम राजेश कुमार को वहां तैनात किया है.

पांच किलोमीटर एरिया को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है. पुलिस और पीएसी की गाड़ियां नकटिया हाईवे से लेकर हर चप्पे-चप्पे पर तैनात कर दी गई हैं. सभी कांवड़िये खजुरिया गांव में मंदिर के सामने बम बम भोले के नारे लगा रहे हैं.

विधायक राजेश मिश्रा पप्पू भरतौल ने बताया कि वह खजुरिया गांव जा रहे थे. पुलिस प्रशासन ने उन्हें घर में नजरबंद कर दिया है. घर के बाहर फोर्स तैनात है. कांवड़ियों को पुलिस प्रशासन उमरिया गांव से निकलवाने में सहयोग करें.

घर में नजरबंद विधायक के हाथ में खजुरिया का रिमोट कंट्रोल

घर और ऑफिस में नजरबंद विधायक को कांवड़ियों के न निकलने देने की सूचना दी गई. जिस पर विधायक ने अपने विश्वस्त लोगों को खजुरिया गांव भेजा है.

उनसे यह स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि सभी कांवड़िये भूख हड़ताल कर दें. पुलिस प्रशासन के अधिकारी उमरिया गांव से न निकलने दे तो शाम को कांवड़ में आग लगा दे. गांव का माहौल काफी खराब हो गया है. लोक परिसर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं.

टकराव की वजह से सांसद व भाजपा नेताओं ने झाड़ा पल्ला

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई की श्रद्धांजलि सभा करने के लिए संजय नगर पार्टी कार्यालय पर भाजपा के वरिष्ठ नेता विधायक और मंत्री उपस्थित हुए.

आंवला सांसद धर्मेंद्र कश्यप ने कहा पुलिस प्रशासन और कांवड़िये उनके हैं. उनकी प्रदेश और केंद्र में सरकार है. वह नहीं चाहते कि किसी तरह का टकराव हो. इस वजह वे खजुरिया गांव नहीं गए हैं.

 

 

31 दिसंबर को बंद हो जाएगा डेबिट कार्ड, जानिए क्यों?

बरेली कॉलेज के प्राचार्य करेंगे फैसला कब खुलेगा ताला