in ,

उत्पीड़न की शिकार महिलाओं की मदद के लिए बरेली में बनाए गए आशा ज्योति सेंटर से बेखबर लोग

उत्पीड़न की शिकार महिलाओं की मदद के लिए बरेली में बनाए गए आशा ज्योति सेंटर (वन स्टॉप सेंटर) से लोग बेखबर हैं. बहुत कम पीड़ित महिलाओं को वन स्टॉप सेंटर के बारे में जानकारी है.

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की सीनियर कंसल्टेंट के निरीक्षण में हकीकत सामने आई है. सीनियर कंसल्टेंट ने डीएम को रिपोर्ट भेजकर आशा ज्योति सेंटर के प्रचार प्रसार के लिए जरूरी कदम उठाने को कहा है.

बरेली में एक साल पहले 2.5 करोड़ की लागत से आशा ज्योति सेंटर तैयार किया गया था. आशा ज्योति सेंटर पर पीड़ित महिलाओं को कानूनी और मेडिकल समेत तमाम जरूरी मदद नि:शुल्क मुहैया करानी थी. सेंटर एक साल से काम कर रहा है. सरकार ने पीड़ित महिलाओं की मदद के लिए एक रेस्क्यू वाहन भी मुहैया कराया है.

181 हेल्पलाइन से जोड़ा गया है. बावजूद इसके प्रचार प्रसार की कमी से आशा ज्योति सेंटर का फायदा उत्पीड़न की शिकार महिलाओं को नहीं मिल सका है. हाल ही में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की सीनियर कसल्टेंट ने आशा ज्योति सेंटर का दौरा किया था.

आशा ज्योति सेंटर तक रोड न होने पर भी ऐतराज जताया. डीएम को भेजी रिपोर्ट में आशा ज्योति सेंटर का शहर से लेकर देहात तक प्रचार करने को कहा है. साथ ही अधूरे एप्रोच रोड को बरसात से पहले पूरा कराने को कहा है.

 

बरेली शहर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए यूरोप की दो कंपनियां देंगी प्रेजेंटेशन

बरेली: पूर्वोत्तर रेलवे श्रमिक संघ ने शुरू किया बच्चों के लिए निशुल्क समर कैंप